राजकुमारी-6

जानता था कवि
राजकुमारी का प्यार
वह नहीं है

जानता था कवि
इस का अंत-
कल्पनाओं के टूटे पंख
कुछ बेतरतीब चित्र
बहुत उदास रंग
घायल सपने
और खत्म न होने वाली
पीड़ा में तरबतर याद है

फिर भी किया
उस ने प्यार
यह मानते हुए-
कि इन सब से बड़ा है
प्यार का होना
जिस के लिए
स्वीकार है सब ।

Leave a Reply