राजकुमारी-5

प्यार में
एक बार फिसलने के बाद
बहुत संभल-संभल कर
चलती है राजकुमारी

रास्ता लम्बा है
जाने कब, कहाँ होगा पूरा
नहीं जानती राजकुमारी
वह तो बस निकल पड़ी

लाख सोचा चलूँ
संभल-संभल कर
चली भी थी राजकुमारी
अंत में फिर फिसल पड़ी……

Leave a Reply