राजकुमारी-2

दोहरी जिंदगी जीने को
श्रापित है राजकुमारी
चलता है निरंतर
उस के भीतर युद्ध

युद्ध-विराम के समय
वह सोचती है-
हाँ यह ठीक है
और जैसे ही आगे बढ़ाती है
दो-चार कदम
रूक जाती है वहीं
सोचते हुए- नहीं,
यह गलत है ।

Leave a Reply