परिधि

बिना खूंटियों के
टंगे हैं सपने
जगह-जगह !
आंख की परिधि से
परे नहीं है
एक भी सपना !

Leave a Reply