गुड़िया-3

जिस गुड़िया से था
प्यार बचपन में
वह कितना निष्पाप था

उसे दिन-रात चूमना
और बार-बार गले लगाना
कितना बेदाग था

अब पाप में
दाग गिन भी नहीं पाता !

Leave a Reply