गुड़िया-5

यहाँ की नहीं तुम
आई हो किसी लोक से
सुंदर-सी बन गुड़िया

जब भी देखता हूँ-
पाता हूँ तुम्हें
मासूम-सी एक गुड़िया

अब बचपन जा चुका
कहाँ छुपा सकता हूँ तुम्हें –
मन के सिवाय !

Leave a Reply