इंतज़ार-2

प्रेम होने पर
तुमसे कहा मैंने-
प्रेम एक कुआँ है,
जिसमें गिर पड़ा हूँ मैं
या प्रेम एक पहाड़ है
जिस पर चढ़ गया हूँ मैं ।

तुमने कहा-
मैं हूँ अभी ज़मीन पर
और रहना चाहती हूँ-
इसी ज़मीन पर ।

मैंने कहा-
मैं इंतज़ार करुँगा ।

Leave a Reply