अपने हिस्से की छाया

मैं थक गया
ठूंठ कहता है-
यह भी कोई जीना है
लाओ तुम्हारी कुलहाड़ी ।

मैं पहचानता हूं
प्रार्थना के भीतर छिपी लाचारी
ठूंठ करता है प्रणाम
मुक्ति की कामना में !

ठूंठ के हाथ डरते हैं
जड़ों से
और मेरे हाथ
कुलहाड़ी से ।

ठूंठ के भीतर
अभी तक मैं देखता हूं
एक लक-दक वृक्ष
और अपने हिस्से की छाया ।

खेलती है छुप्म-छुप्पी
ऋतुओं के संग
छाया अपने हिस्से की
अपने हिस्से की छाया ।

Leave a Reply