दाढ़ी

अपराधी नहीं काटते दाढ़ी
दाढ़ी संन्यासी भी नहीं काटते

दाढ़ी में रहता है तिनका
तिनका डूबते का सहारा होता है

दाढ़ी वे भी नहीं काटते
जिनके पास इसके पैसे नहीं होते

दाढ़ी सिर्फ दाढ़ी नहीं होती
यह इतिहास के गुप्त प्रदेश में
उग आई झाड़ी है

इस झाड़ी में छिपे बटेर
ढ़ूँढ़ रहें हैं शंकराचार्य
ढूँढ़ रहे हैं शाही ईमाम ।

Leave a Reply