जो छुपाकर जहाँ से रक्खा है

देखने में मकाँ जो पक्का है
दर हक़ीक़त बड़ा ही कच्चा है

ज़िंदगी कैसे प्यारे जी जाये
ये सिखाता हर एक बच्चा है

छाँव मिलती जहाँ दोपहरी में
वो ही काशी है वो ही मक्का है

जो अकेले खड़ा भी मुस्काये
वो बशर यार सबसे सच्चा है

जिसको थामा था हमने गिरते में
दे रहा वो ही हमको धक्का है

आप रब से छुपायेंगे कैसे
जो छुपाकर जहाँ से रक्खा है

जब चले राह सच की हम ‘नीरज’
हर कोई देख हक्का बक्का है

Leave a Reply