प्रेम में-2

कुछ
कहने का सुख
कुछ
न कह पाने के दुख में
छिपा रहता है

चलती रहती है
एक कहानी समानांतर

Leave a Reply