प्रेम में-1

एक धूसर रंग
धमनियों में उतरता चला जाता है

भीतर
एक चोर बैठा रहता है

आस्माँ पर
चांद उतर आता है ।

Leave a Reply