चीटियाँ

== कतार ==

कतार में सरपट दौड़ती चींटियाँ व्यस्त हैं
इधर से उधर
उधर से इधर
लगातार मेहनत करती, खुशहाल कल के लिए ।

इतनी भी फुरसत नहीं
कि हाल पूछ लें, कम से कम
राह में मिलने वाले दोस्त / रिश्तेदार का
बस ‘हलो’ कह कर आगे बढ़ जातीं हैं
कहीं चूक न जाएँ कोई छोटा सा अवसर
भाग्योदय का ।

कतार में सरपट दौडती चींटियाँ खबरदार हैं
कि कभी भी कोई बड़ा सा पैर
धम्म से पड़ सकता है अचानक उन पर
क्षण भर में टूट सकती है / कतार
गड्ड-मड्ड हो सकते हैं / बेहतर कल के सपने
ढोनी पड़ सकती हैं / अपने संबंधियों की लाशें
सभी व्यस्त चींटियों को
इधर से उधर,
उधर से इधर ।

कतार में सरपट दौड़ती चींटियाँ आश्वस्त हैं
कि धीरे-धीरे पुनर्व्यवस्थित हो जाती है कतार
फिर से स्पष्ट होने लगते हैं सपने
फिर से व्यस्त होने लगती हैं चींटियाँ
सब कुछ भूल कर
इधर से उधर
उधर से इधर।
कतार में सरपट दौड़ती चींटियाँ
कभी-कभी बहुत सुन्दर दिखती हैं ।

Leave a Reply