गज़ा पट्टी-1

गज़ा पट्टी रक्त से सनी है
खुले पड़े हैं अनगिनत जख़्म

अरब सागर अपनी चौड़ी तर्जनी से बरज़ रहा है
इस्त्राइल को किसी की परवाह नहीं है
काठ का हो गया है
उसका ह्रदय
ताकत के नशे में वह इतिहास को भूल रहा है

अभागे फिलिस्तीनी अपनी मिट्टी से
बेदख़ल किए गए
उनके घर के दरवाज़े
उनके चाँद तारे
सब पर कब्ज़ा कर लिया
दुनियाभर से आए यहूदियों ने
अमेरिका का वरदहस्त सदा रहा इस्त्राइल के कंधे पर

इस्त्राइल के टैंक रौंदते रहे
फिलिस्तीनियों के सीने
उनकी बंदूकें उगलतीं रहीं आग
मक्का के दाने से भुन गए छोटे छोटे शिशु भी
पर टूटे नहीं फिलिस्तीनियों के हौसले

आज़ फिर ख़ामोश है अमेरिका यूरोप
आज फिर उद्देलित है
अरब सागर
सूअरों-कुत्तों की तरह फिर मारे जा रहे फिलिस्तीनी
लाल हो रही रक्त से फिर
गज़ा पट्टी

Leave a Reply