भाषा

धूल में अँटी
कादो-कीचड़ में सनी
पानी दिया मैंने
हाथ मुँह धोने को

ठीक हूँ मैं ऐसे ही
ऐसे ही बरतो मुझे
भाषा बोली

Leave a Reply