महक नहीं आती काँटों से

पटा रहा दिन सन्नाटों से
ऐसे में अनुवाद करें क्या
महक नहीं आती काँटों से
इस पर वाद-विवाद करें क्या

बोनों की हिक़मत तो देखो
चूम रहे
मेघों के गाल
काग़ज़ की
शहतीरें थामें
बजा रहे सब के सब थाल

परछाईं हारी नाटों से
ऐसे में संवाद करें क्या

चट्टानों पर धूप चढ़ी तो
शिखर हुए
हिम से कंगाल
गर्म हवाओं के
दंगल ने
नष्ट किया कुल साज-सँभाल

पाला है बन्दर-बाँटों से
ऐसे में प्रतिवाद करें क्या

Leave a Reply