धूप में बस्ता उठाए

धूप में बस्ता उठाए
हाँफता बच्चा ।

तोतली-भोली निगाहें,
लापता बच्चा ।

नींद नयनों में
अभी अलसा रहीं किरनें
किन्तु कक्षा के नियम
मन में लगे तिरनें

सभ्यता का कंटकित पथ
नापता बच्चा ।

बादलों से घिर गया है
व्योम बचपन का
पाँच का है, लग रहा पर
वृद्घ पचपन का

कापियों पर अब किताबें
छापता बच्चा ।

तोतली-भोली निगाहें,
लापता बच्चा ।

Leave a Reply