अर्थ बदल दूँ काश का

सुबह-सुबह की धूप बना लूँ
भर दूँ रंग पलाश का ।

मन हिरना को हंस बना लूँ
छू लूँ पंख प्रकाश का ।

सोनी हल्दी सनी हथेली
कुमकुम की सौगंध
रह-रह कर आमंत्रित करती
नेहानुत अनुगंध

मन को पावन नीर बना लूँ
तन को हिम कैलाश का ।

कोई परिचित लहरों जैसा
लेता है आलाप
खोता, उतरता लय धुन में
स्वप्नों में चुपचाप

मन है उसको मेघ बना लूँ
अधरों के आकाश का ।

जी करता है अर्पित कर दूँ
कोरों का सब नीर
जैसे सागर के आँगन में
नदिया हारे पीर

मनभावन अनुमान बना लूँ
अर्थ बदल दूँ काश का ।

Leave a Reply