अजात सम्बोधन

राम करेंगे फिर बहुरेंगे
सम्मोहन गतिमान के ।

बहुत संकुचित हुईं हवाएँ
अब सागर
फिर मथा जाएगा
लहरों के अनहद निबंध की
देवालय
फिर कथा गाएगा ।

फिर फूटेंगे, अँखुवे जल में
संप्रति जीवन प्राण के ।

अब फिर कोई
सुधा षोडशी
भटकावा लेकर आएगी
संबंधों के कोलाहल को
लम्बी साँसें
दे जाएगी ।

तरल बनेंगी, गरल वीथियाँ
पीकर सत्व निदान के ।

अभियोजन की
ललित कामना
एक सुपरिचित युग लाएगी
फिर नैतिक शैली चिन्तन की
सृजनशीलता
दोहराएगी ।

फिर अजात होंगे सम्बोधन
टूटन ओर थकान के ।

Leave a Reply