ऎसी ही एक दुनिया

कोसों दूर से चलकर आए पिता
पावस के इन दिनों में भीगते हुए
बहुत इंतज़ार के बाद
जैसे आया हो वसंत
उदास पतझड़ में

सुनाते रहे पिता गाँव का हालचाल
फ़सलों की हालत
और सुख-दुख की ख़बरें
पिता जिन्होंने मुझे दी एक दुनिया

ऎसी ही एक दुनिया
अपने बच्चे को देते समय
मैं भूलूंगा नहीं
पिता की दुनिया का नक्शा ।

Leave a Reply