विगत यौवना

बीता यौवन तेरा,
बुढ़िया बीता यौवन तेरा।
धौरा रंग जमाय जरा ने, कृष्ण कचों पर फेरा,
झाडे़ दाँत, गाल पटकाये, कर डाला मुख झेरा।
आँखों में टेढ़ी चितवन का, वीर न रहा बसेरा,
फीका आनन-मण्डल मानो, विधु बदली ने घेरा।
झोंझ बया के-से कुच झूले, फाड़ मदन का डेरा,
अब तो पास न झाँके कोई, रसिया रस का चेरा।
चेत बुढ़ापे को मत खोवे, करले काम सबेरा,
अपनाले ‘शंकर’ स्वामी को, मंत्र समझले मेरा।

Leave a Reply