हिन्दी नहीं जाने उसे हिन्दी नहीं जानिए

‘शंकर’ प्रतापी महामण्डल की पूजा करो,
भेद वेदव्यास के पुराणों में बखानिए।
बोध के विधाता मतवालों को बताते रहो,
आपस में भूलकै भिड़न्त की न ठानिए।
जूरी जाति-पांति की पटेल-बिल में न घुसे,
भिन्नता को एकता के सांधे में न सानिये।
हिन्दुओं के धर्म की है घोषणा घमण्ड-भरी,
हिन्दी नहीं जाने उसे हिन्दी नहीं जानिये।।

Leave a Reply