आत्म-शोधन

बिगड़ा जीवन-जन्म सुधार
खेल न खेल मूढ़-मण्डल में, कर विवेक पर प्यार,
छल-बल छोड़ मोह-माया के, हितकर सत्य पसार।
बन्धन काट कड़े विषयों के, वश कर मन को मार,
अस्थिर भोग भोग मत भूले, सब को समझ असार।
छाक न छल से छीन पराई, बांट सुकृति-उपहार,
मत सोचे अपकार किसी का, करले पर-उपकार।
पल-भर भी भूले मत भाई, हरि को भज हर बार,
चेत, चार फल देगा तुझको, ‘शंकर’ परम उदार।

Leave a Reply