इश्क तुमसे किया नहीं होता – GAZAL SALIM RAZA REWA

      — ग़ज़ल —
इश्क  तुमसे  किया  नहीं होता 
जिन्दगी में मज़ा नहीं होता !

दिल किसी का दुखा नहीं होता 
तो फिर  इतना बुरा नहीं होता !

जिन्दगी तो  संवर गयी  होती 
ग़र वो मुझसे  जुदा नहीं होता !

उसकी चाहत ने कर दिया पागल 
प्यार इतना किया  नहीं  होता !

रात  भी  यूँ  हँसी नहीं होती 
दिन भी यूँ ख़ुशनुमा नहीं होता !

ज़ख्म खाकर भी मुस्कुराने का 
सब में ये  हौसला नहीं होता !

सब  उसी का रज़ा करिश्मा है 
कुछ ना होता खुदा नहीं होता !

2122 1212 22
shayar salimraza rewa

Leave a Reply