सोनिया समन्दर

सोनिया समन्दर
सामने
लहराता है
जहाँ तक नज़र जाती है,
सोनिया समन्दर !

बिछा है मैदान में
सोन ही सोना
सोना ही सोना
सोना ही सोना

गेहूँ की पकी फसलें तैयार हैं–
बुला रही हैं
खेतिहरों को
…”ले चलो हमें
खलिहान में–
घर की लक्ष्मी के
हवाले करो
ले चलो यहाँ से”

बुला रही हैं
गेहूँ की तैयार फसलें
अपने-अपने कॄषकों को…

Leave a Reply