आओ, हम फिर से जियें

आओ, हम फिर से जियें ।

बहता-बहता मेघखंड जो
पहुँच गया है वहाँ क्षितिज तक
लौटा लायें उसे,
कहें :
‘ओ, फिर से बहो ।
मन, मन्थर, मृदु गति से …
शोभावाही मेघ, रसीले मेघ, दूत ।
जो कथा कही थी, फिर से कहो ।‘

और …
अपलक, अविचल
हम उसे निरखते रहें, पियें ।

आओ, हम फिर से जियें ।

Leave a Reply