इनसे मिलिए

पाँवों से सिर तक जैसे एक जनून,
बेतरतीबी से बढ़े हुए नाख़ून

कुछ टेढ़े-मेढ़े बैंगे दाग़िल पाँव,
जैसे कोई एटम से उजड़ा गाँव

टखने ज्यों मिले हुए रक्खे हों बाँस,
पिण्डलियाँ कि जैसे हिलती-डुलती काँस

कुछ ऐसे लगते हैं घुटनों के जोड़,
जैसे ऊबड़-खाबड़ राहों के मोड़

गट्टों-सी जंघाएँ निष्प्राण मलीन कटि,
रीतिकाल की सुधियों से भी क्षीण

छाती के नाम महज़ हड्डी दस-बीस,
जिस पर गिन-चुन कर बाल खड़े इक्कीस

पुट्ठे हों जैसे सूख गए अमरूद…..
चुकता करते-करते जीवन का सूद

बाँहें ढीली-ढाली ज्यों टूटी डाल ,
अँगुलियाँ जैसे सूखी हुई पुआल

छोटी-सी गरदन रंग बेहद बदरंग,
हरवक़्त पसीने का बदबू का संग

पिचकी अमियों से गाल लटे से कान ,
आँखें जैसे तरकश के खुट्टल बान

माथे पर चिन्ताओं का एक समूह ,
भौंहों पर बैठी हरदम यम की रूह

तिनकों से उड़ते रहने वाले बाल ,
विद्युत परिचालित मखनातीसी चाल

बैठे तो फिर घण्टों जाते हैं बीत ,
सोचते प्यार की रीत भविष्य अतीत

कितने अजीब हैं इनके भी व्यापार
इनसे मिलिए ये हैं दुष्यन्त कुमार ।………….

Leave a Reply