अकेले होकर

तुम सड़क पर चलते वक़्त
धरती पर
पड़ रही
अपनी परछाईं को भी
खुरचकर
अपने से दूर करना चाहते हो

तन्हाई की बंद-खुली

दरारों
में से

गुज़रना चाहते हो

श्मशान की गन्ध को
ज़िन्दा साँसों में भरना चाहते हो
दोस्त– तुम इतने अकेले होकर क्यूँ मरना चाहते हो?

Leave a Reply