हर रात घर लौटते हुए सोचता हूँ

हर रात घर लौटते हुए सोचता हूँ
दिन भर की थकान मिटाने के लिए
मेरे ऊपर एक छत है
छत के नीचे एक बिस्तर
बिस्तर पर एक तकिया
और तकिए पर एक इत्मीनान

घर और इत्मीनान और नींद और ख़्वाब
सबके हिस्से में नहीं हैं एक साथ

किसी के पास घर है पर इत्मीनान नहीं
किसी के पास नींद है पर ख़्वाब नहीं
और जिनके पास ख़्वाब हैं
उनके पास न तो नींद है, न इत्मीनान
वे घर का ख़्वाब देखते ही रह जाते हैं।

Leave a Reply