तुमने मेरे पथरीले घर में क़दम रखा

तुमने मेरे पथरीले घर में क़दम रखा
और वहाँ एक मीठे पानी का चश्मा फूट पड़ा

पूरा गाँव उस चश्मे का पानी ले जाता है
उसमें नहाता है, पीता है
और पूरे गाँव से उदासी भाग गई है

मैं इस करिश्मे से ख़ुश हूँ और परेशान भी
अगर मुझे मालूम होता कि इस ख़ुशी की एवज़ में
उदासी तुम्हारे दिल में घर कर जाएगी
तो मैं…

Leave a Reply