घर -५

यहीं से टूटता है घर
जब छोटे-छोटे उबाल
बन जाते हैं बड़े ज्‍वालामुखी।

Leave a Reply