घर -१

भेजते रहना

पिछवाड़े वाले हरसिंगार जितनी हँसी

घराल के साथ वाले अमरूद की चमक

दुनिया चाहती है तरह-तरह के सवाल रखना

शरारतों के बाद

मेरे छुपने के ठिकानों

अपना ख्‍याल रखना.

Leave a Reply