कृपया ठुँग न मारें-4

दफ़्तर
घर
माँ
प्रेमिका
दोस्त
ओ सूरजप्रकाश!
क्या तुम ऐसी पाँच तख़्तियाँ
दे सकते हो?
जिन पर लिखा हो
`कृपया ठुँग न मारें’

Leave a Reply