मुझे देखने है

मुझे देखने है
सारे अदेखे दृष्य
मुझे जानने है
सारे अज्ञाने ज्ञान
मुझे समेटने है
सारे बिखराव
बस इसी एक आस में
बैठा हूं कब से
इस नंगधड़ंग तार पर
इस कबूतर के भीतर
कबूतर के भीतर का कबूतर
इस शोध में मेरे साथ है
मेरे भीतर बैठा है एक बंदर
मुझे याद है।

Leave a Reply