कहीं पढा था

कहीं पढा था
जिस तरह मर जाते हैं
बीमार-कमज़ोर बच्चे
मर रहे हैं शब्द कविता में
इतना गर्म
और लचीला कर दिया है माहौल
बाज़ारों ने
कि अखबारी समाचार
फंतासी किस्सागोई
होने लगी है कविता
बच्चे ने लिखे
सुलेख की अभ्यास पुस्तिका में
लिखावट सुधारने के लिए कुछ षब्द
गर्व से घोशित कर दिया गया
बेटे ने लिखी है कविता।

Leave a Reply