पागलपन

मेरे
घर के पास
खडा वृक्ष
तेज हवा का
बहाना बनाकर
रोज चुमता है
घर की छत को।

साथ में
गिरा देता है
कुछ पत्ते व फूल
मेरे घर की
छत पर।

मैंने
उससे पूछा,
भाई
ऐसा रोज-रोज
क्यों करतें हो?

उसने कहा
अरे!
भूल गए आप
जब काट रहे थे
कुछ लोग मुझे

शहर के
सौन्दर्यकरण के नाम पर
तब तुम्हीं ने
रोका था उन्हें।

बहुत
लडे थे तुम
परेशान भी
बहुत रहे थे
लिपट गए थे
मेरे तने से।

फिर लोगों ने
मुझे छोड दिया
यह कह कर
कौन कह कर
कौन माथा मारे
इस पागल से।

तुम्हारा
यह पागलपन
मुझे
बहुत प्यारा लगा

Leave a Reply