दशानन

सफल
खलनायक
आज हमारा
नायक है।
यही पैमाना हैं
आज सफलता का।

जो सफल है
वही सत्यनिष्ठ है
वही ईमानदार है।

सफल-सुप्रसिद्व लोग
आदर्शविहनीता के
बावजूद
पूजे जाते है।

अब आदर्शों की
सूची नहीं बनती
सिर्फ
सफल लोगों की
सूची बनती है।

इसलिए
अब राम नहीं
सभी दशानन बनना चाहते हैं।

Leave a Reply