बाहर-भीतर

बाहर कितना शोर मचा है,

भीतर आती एक न आहट,

इसी मुक्ति के लिए

तुम्हारे मन में थी इतनी अकुलाहट ।

अरे बन्धु । यह तो कारा है,

दृढ प्राचीरें, द्वार अचल है ,

और वहाँ जनघोष, क्रान्तियाँ —

और यहाँ…सबकुछ निश्चल है ।

Leave a Reply