मौहब्बत

जितने से घाव सूखकर ठीक हो जाए
जितने से अमरूद पककर पीला हो जाए
जितने से माटी के पात्र में जल थिर जाए
जितने से स्वेद-कण सूख जाए
…जितने से मूंग में अंकुर निकल आए
जितने से सुई पिरोई जाए
उतनी-सी मुहब्बत मुझे दो… !!

Leave a Reply