कहने सुनने से ज़रा पास आके बैठ गए

कहने सुनने से ज़रा पास आके बैठ गये।

निगाह फेर के त्योरी चढ़ा के बैठ गये॥

निगाहे-यास मेरी काम कर गई अपना।

रुलाके उट्ठे थे वो मुस्करा के बैठ गये॥

Leave a Reply