न सुर्खी गुंचा-ए-गुल में तेरे दहन की

न सुर्खी गुंचा-ए-गुल में तेरे दहन की

न यासमन में सफाई तेरे बदन की
नहीं हवा में यह बू नामा-ए-खतन की

लपट है यह तो किसी ज़ुल्फ़-ए-पुर-शिकन की
गुलों के रंग को क्या देखते हो, ए खूबां

यह रंगतें हैं तुम्हारे ही पैरहन की
यह बर्क अब्र में देखे से याद आती है

झलक किसी के दुपट्टे में नौ-रतन की सी
हज़ार तन के चलें बाँके खूब-रू, लेकिन

किसी में आन् नहीं तेरे बांकपन की
कहाँ तू और कहाँ उस परी का वस्ल नज़ीर

मियाँ तू छोड़ यह बातें दिवानेपन की

Leave a Reply