सुन लो कि मर्गे-महफ़िल कुछ मौतबर नहीं है

सुन लो कि रंगे-महफ़िल कुछ मौतबर नहीं है।
है इक ज़बान गोया, शमये-सहर नहीं है॥

मुद्दत से ढूंढ़ता हूँ मिलता मगर नहीं है।
वो इक सकूने-ख़ातिर जो बेश्तर नहीं है॥

Leave a Reply