सिवादे-शामे-ग़म से रूह थर्राती है क़ालिब में

सिवादे-शामे-ग़म[1] से रूह थर्राती है क़ालिब[2] में।
नहीं मालूम क्या होगा, जो इस शब की सहर होगी॥

क़फ़स से छूटकर पहुँचे न हम, दीवारे-गुलशन तक।
रसाई आशियाँ तक किस तरह बेबालो-पर होगी॥

फ़क़त इक साँस बाक़ी है, मरीज़े-हिज्र के तन में।
ये काँटा भी निकल जाये तो राहत से बसर होगी॥

शब्दार्थ:

  1. ↑ ग़म रूपी संध्या
  2. ↑ शरीर

Leave a Reply