संगीत नीरव

संगीत नीरव
सोचिए
क्यों इस नदी में
बह रहा पानी नहीं अब

इस नदी में सिर्फ
बालू-रेत ही हैं, जल नहीं है
सीप, घोंघे, केकड़े, पर
हो रहे विह्वल नहीं हैं
मछलियों को
तैरने से भी रहा
कोई न मतलब

इस नदी में जल
कभी पीने नहीं आते पखेरु
दूर से ही नमन कर लेते
हकासे ढोर-लेरु
इस नदी को
बांधने की योजना
अब है असंभव

गांव घर, सीवान का
कोई पता देती न यह भी
एक जैसी हो गयी है सांझ
रातें, दिन, सुबह भी
हो चुका है
इस नदी के तटों का
संगीत नीरव

Leave a Reply