प्रतीक्षारत

खिले अगणित फूल।
कुछ ॠतुराज के चरणों तले
दूर्वादलों में और
कुछ श्रृंगार माथे का बने:
वृक्षों-लताओं के मुकुट जैसे पले।

गन्धयुत, मधुमय धरित्री से
सितारों-विद्युतों से तने
नीलाकाश तक
अनगिनत साँचों में ढले
वे खिले अगणित फूल।
(कुटिया में, महल में, या ‘विजन-वन-वल्लरी पर ‘।)

एक मैं हूँ :
स्वप्न-सर्जित, राग-चर्चित पुष्प,
आकुल, चिर-प्रतीक्षारत कि
मेरी पंखुरी की भाग्य-रेखा पर लिखा है
नाम जिनका,
वे अपरिचित देव
जो अब विफलताओं से पराजित हो रहे होंगें-
किसी अज्ञात पथ-निर्देश से संकेत पाकर
यहाँ आएँ,
मुझे देखें :देखते रह जायँ ,
तोड़ें, सूँघ लें : मन में बसाकर गन्ध
मसलें : फेक दें, बस ।

Leave a Reply