नजर मौसम की

नज़र मौसम की
हवाओं की चाल पर है
नज़र मौसम की

कहाँ तीखा घाम
बरखा कहाँ होनी है
किस जगह के चेहरे की
मैल धोनी है
कहाँ गूँजेगी
ध्वनि अविराम सरगम की

है अभी उलझी
हुई गुत्थी सवालों की
नापनी है चाल धड़कन की
उछालों की
भोर की आँखें
उमंगों से भरी चमकी

हर परिन्दे की
उड़ान चाह होती है
आंधियों में गुम न कोई
राह होती है
चिलचिलाती धूप में
बेला न क्या गमकी

Leave a Reply