कैसे कहूँ

हर बात जो कही थी,
हर काम जो किया,
हर पीर जो सही थी,
हर नाम जो लिया…
कैसे कहूँ, अनामे।
हर एक में तुम्हीं थीं,
विपदा न कम रही थी,
संघर्ष में जिया।

Leave a Reply