मेले में

मैं इस दुनिया में वैसा ही ख़ुश हूँ,
जैसे: मेले में छोटा बच्चा हूँ।

इस बच्चे ने मिट्टी की मूरत को,
मैंने हर चलती-फिरती सूरत को,

उत्सुकता से, हैरत से देखा है।

फिर हमने : यानी मैं औ’ मेरे बाहर-भीतर के

उस छोटे-नन्हे बच्चे ने :

हम दोनों ने

अपने से ज़्यादा उसको माना है ।
अपने ढंग से जाना-पहचाना है।

यों : ऐसा हुआ कि नक़ली फूलों को
मेले में जाकर फूले बच्चे ने

असली से भी कुछ बढकर जाना है,
यों : हुआ कि गैस-भरे गुब्बारे को
सपनों का, परियों का घर माना है-
अब झूठा हो तो हो
मैं तो उसको भी माने बैठा सच्चा हूँ ।
हाँ, कहा न मैंने– मेले में आया हूँ, बच्चा हूँ ।

देखिए मुझे -–कैसा हूँ,

दुनिया के मेले में हूँ,
आती-जाती भीड़ों में, धक्कों में,

रेलों में हूँ,
मैं धक्के पाकर ख़ुश हूँ,
ठोकर खाकर हँसता हूँ 

ज़्यादा से ज़्यादा भीड़ देखता हूँ-

जा धँसता हूँ। 

सम्मुख होकर जो भी आया है, और गया भी है,
बांधा है उसने मुझको, वह हर बार नया भी है ।
मैं चकित-भ्रमित हो आँखें फाड़े देखे लेता हूँ,

भीतर का सब उल्लास-लास देता हूँ, देता हूँ…

यह जीवन मुझको हर्षित करता है,
मानें : बेहद आकर्षित करता है ।

 

मामूली खेल-तमाशों में खोया रह जाता हूँ,

कुछ गाता हूँ-
टूटे-फूटे स्वर में कुछ गाता हूँ-

क्या जाने कब की सुनी हुई लय को दुहराता हूँ,

इस प्रौढ, परिष्कत, सभ्य, सुसंस्कृत
जलसे में, संभव है, कच्चा हूँ …

फिर कहता- दुनिया के मेले में केवल बच्चा हूँ

इसलिए बहुत ख़ुश हूँ,
सच मानें : बहुत-बहुत ख़ुश हूँ ।

Leave a Reply