शाख़ों को तुम क्या छू आए

शाख़ों को तुम क्या छू आए
काँटों से भी ख़ुशबू आए

देखें और दीवाना कर दें
गोया उनको जादू आए

कोई तो हमदर्द है मेरा
आप न आए आँसू आए

इश्क़ है यारो उनके बस का
जिन को दिल पर काबू आए

उन कदमों की आहट पाकर
फूल ही फूल लबे –जू आए

गूँज सुनी तेरे चरख़े की
पर्बत छोड़ के साधू आए

‘नक्श़’ घने जंगल में दिल के
फ़िर यादों के जुगनू आए

Leave a Reply