कई ख्व़ाब मुस्कुराए सरे शाम बेख़ुदी में

कई ख्व़ाब मुस्कुराए सरे शाम बेख़ुदी में
मेरे लब पे आ गया था तेरा नाम बेख़ुदी में

तेरे गेसुओं का साया है के शामे-मैकदा है
तेरी आँख़ बन गई है मेरा जाम बेख़ुदी में

कई बार चाँद चमके तेरी नर्म आहटों के
कई बार जगमगाए दरो-बाम बेख़ुदी में

जिसे ढूँढ़ती रही हैं मेरी बेक़रार आँख़े
मेरे दिल ने पा लिया है वो मक़ाम बेख़ुदी में

वो ख़याल कौन-सा है के बना हुआ है पैकर
किसे ‘नक्श़’ कर रहा हूँ मैं सलाम बेख़ुदी में

Leave a Reply